कोरोना संकट एक भोजन की कमी का कारण बनता है

अमेरिका में मिनेसोटा राज्य का एक सूअर फार्म कोरोना महामारी के कारण आजकल इन जानवरों की और फार्म के कोरोना संकट मालिक दोनों की मुश्किलें बढ़ पर मालिकों के पास ना तो इतना पैसा है कि इतने जानवरों को खाना खिला सके और ना ही इन्हें रखने की जगह यह सब इसलिए हुआ क्योंकि दुनिया की बड़ी उम्मीद कंपनियों ने कोरोनावायरस काम रोक दिया है उत्तरी अमेरिका में लगभग 20 बूचड़खाने बंद है

यहां से हमको नहीं ले जाया जाता है तो हम स्वरों को यहां नहीं ला सकते सूअर के नन्हें बच्चों को रखने के लिए हमारे पास जगह नहीं होगी तो अभी हमारे यहां बहुत ज्यादा जानवर हैं इन्हें रखने के लिए हम हरसंभव जगह का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन अगर हम उन्हें बेच नहीं पाए तो यूं ही देना पड़ेगा सबको रखने के लिए जगह नहीं है इस समस्या का हल कैसे निकाला जाए

इसके लिए फार्म में कुछ तरीके सोचे हैं

कोरोना संकट एक भोजन की कमी का कारण बनता है
कोरोना संकट एक भोजन की कमी का कारण बनता है

उजाला उत्तर पश्चिमी देशों को ऐसा खाना देने की योजना बनाई है जिससे उनके शरीर का विकास कुछ धीमा हो ऐसा नहीं है कि उनका वजन घट जाएगा लेकिन शायद वह इतनी तेजी से नहीं बढ़ेगा यहां पर सूअरों को सोयाबीन के छिलकों का यह बुरादा खिलाया जा रहा है यह पेट तो भरता है लेकिन इससे पोषण बहुत ही कम मिलता है मुझे लगता है कि ज्यादातर लोगों ने तय कर लिया है कि किस तरह से जानवरों की वृद्धि को रोकना है लेकिन मीट प्लांट जितनी ज्यादा दिनों तक बंद रहेंगे उतनी ही ज्यादा बड़ी यह समस्या होती जाएगी समस्या ज्यादा ही बड़ी तो किसान इन जानवरों को खुद मारने के लिए मजबूर होंगे

मीट कंपनियों का कहना है कि प्लांट बंद होने की वजह से अमेरिकी बाजारों में खाने की किल्लत हो सकती है सुपरमार्केट और फूडबैंक मीट की मांग को पूरा करने के लिए खासी मशक्कत कर रहे हैं जो माल आ भी रहा है वह भी सुपर मार्केट को बढ़े हुए दामों पर मिल रहा है इसका असर आखिरकार ग्राहकों पर ही पड़ रहा है

आई मचाई द फर्स्ट मुझे लगता है कि मई के पहले हफ्ते से आप कुछ किल्लत महसूस कर सकते हैं पहले यह कुछ जगहों पर होगी इसके बाद यह व्यापक रूप ले सकती है अमेरिकी सरकार ने 19 अरब डॉलर के पैकेज का ऐलान किया है इससे किसानों को मुआवजा दिया जाएगा ताकि को रोना संकट की वजह से मारे जाने वाले जानवरों की वजह से हुए नुकसान की भरपाई हो सके जानवरों की देखभाल करना किसानों के लिए लगातार चुनौती बन रहा है पता नहीं जानवरों की देखभाल कैसे करें क्योंकि उन्हें ज्यादा देर तक रखना है मैं नहीं कहूंगा कि सब कुछ ठप हो गया है पर काफी मुश्किलें हैं

कोरोना संकट एक भोजन की कमी का कारण बनता है
कोरोना संकट एक भोजन की कमी का कारण बनता है

किसानों के लिए हमेशा यह गर्व की बात रही है कि उनकी फसलों और मवेशियों से लोगों का पेट भरता है हंसकर संकट के समय में उनकी भूमिका कहीं ज्यादा अहम हो जाती है लेकिन को रोना संकट में मीट प्लांट ही नहीं बल्कि दूसरे कारखानों को भी बंद करा दिया है कर्मचारियों को घर पर बैठना पड़ रहा है ऐसे में किसानों की हताशा बढ़ रही है अपनी ही लुगाई फसलों को तबाह करने और अपने पाले हुए मवेशियों को मारने की कगार पर पहुंच रहे हैं

10 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *